Home हिन्दी आध्यात्मिक

आध्यात्मिक

आध्यात्मिक

हर इन्सान स्वर्ग में जाना चाहता है या स्वर्ग में रहना चाहता है | जब इस जन्म में वह स्वर्ग का एहसास नहीं कर पाता है, तो वह कल्पना लोक में चला जाता है | मृत्युपरांत स्वर्ग की कल्पना करने...
सद् गुरू की सीख  सही ज़िन्दगी का मुतायला करने और करवाने वाले हैं| इनकी अगर कोई माँग तुमसे है तो यही है कि अगर कोई नुक्स तुम्हारे अन्दर है या कोई बात तुम्हें तपा रही है तो वह इनको दे...
 यह जीवन जीने की सबसे महत्वपूर्ण कला है | एक द्रष्टा की भाँति अपने आपको देखो | यह एक मूलमंत्र है | जिस दिन हमें यह कला आ जाएगी, हमें सब कुछ मिल जाएगा | जितने भी अध्यात्म के...
अपने आपको ईश्वर के समर्पण करना तुम भगवत कृपा से अपने मन का काम करवाना चाहते हो | यही तुम्हारी बड़ी भूल है| और प्रभु की सीधी तुम पर उतरने वाली कृपा की धारा में बाधा देते हो| भगवत् कृपा से...
हर आत्मा में अक्षुण्ण बल है | इस  का सदुपयोग हो जाए, तो हर मनुष्य कमाल कर सकता है | वह अपने ही नहीं दूसरों के जीवन जो भी धन्य कर सकता है | वह बहुत कुछ सृजन कर...
अपनी बीमारी की अच्छी तरह जाँच कर लो, फिर उसका इलाज भी हो जाता है| जो बीमारी अपनी को समझता नहीं, वो दुरस्ती कैसे कर सकता है| इस बीमारी में सब शरीरधारी खड़े हैं| तुम सबसे पहले ईश्वर विश्वासी...
यह एक विषय है, जिस पर कई भी चर्चा करना नादानी मात्र है | परमात्मा हमारी जानकारी से बहुत ऊपर है |  उसका क्या रूप है ? कहाँ विराजमान है ? कैसे, क्या करता है ?  कैसे संसार को चलाता...
बहुत लोग सोचते हैं कि आजकल ईश्वरमय जीवन कैसे अपनाया जा सकता है ?  इतना संघर्ष का समय है हर मनुष्य के सामने जरूरतों के अम्बार हैं सिर्फ़ बच्चों का सोचें अगर इन्हें पब्लिक स्कूल में पढ़ाना है तो...
साधना से ही होता है निर्माण एक बार स्वामी दयान्द सरस्वती के शिष्य गुरूदत्त से किसी ने पूछा - ' आप अपने गुरूदेव के महान जीवन चरित्र पर कोई पुस्तकख्यों नहीं लिखते? इससे उनके आदर्शों को समाज तक पहु़ँचाने में...
बोझ उठाने का महासूत्र मानसकार बताते हैं, एक बार श्रीराम से किसी ने पूछा - " प्रभु, वन प्रवास के समय आप भी पक्षपाती हो गए! ताड़का पर अमोघ बाण चलाया, उसके प्राण हर लिए| पर अहिल्या पर परद-चरण रख...

Latest news

MUST READ