Home हिन्दी आध्यात्मिक

आध्यात्मिक

आध्यात्मिक

हर इन्सान स्वर्ग में जाना चाहता है या स्वर्ग में रहना चाहता है | जब इस जन्म में वह स्वर्ग का एहसास नहीं कर पाता है, तो वह कल्पना लोक में चला जाता है | मृत्युपरांत स्वर्ग की कल्पना करने...
एक बार एक समुद्री जहाज का कप्तान यात्रियों को एक टापू की सैर करवाने के लिए सज्ज हो रहा था | यात्रा से पूर्व कप्तान ने अपने नियमानुसार प्रार्थना करना प्रारम्भ किया, तो सभी युवा यात्री उस पर हँसने...
जीवन जीने का ऐसा ढ़ग जिसमें इंसान ईश्वर प्राप्ति के लक्ष्य की ओर निरन्तर आगे बढ़ता जाए |  संसार में जितने भी अवतार हुए हैं, और जिन्हौंने जिस-जिस मज़हब को आगे बढ़ाया है, सबका केवल एक ही मत रहा...
हर आत्मा में अक्षुण्ण बल है | इस  का सदुपयोग हो जाए, तो हर मनुष्य कमाल कर सकता है | वह अपने ही नहीं दूसरों के जीवन जो भी धन्य कर सकता है | वह बहुत कुछ सृजन कर...
अपने आपको ईश्वर के समर्पण करना तुम भगवत कृपा से अपने मन का काम करवाना चाहते हो | यही तुम्हारी बड़ी भूल है| और प्रभु की सीधी तुम पर उतरने वाली कृपा की धारा में बाधा देते हो| भगवत् कृपा से...
समता और धर्म समता शक्ति से कुल दुनिया का निज़ाम खड़ा है| समता के आधार पर कुल दुनिया की राजनीति और धर्म नीति बनी है| समता शक्ति अनुभव करके कुल महापुरूषों ने निज़ात हासिल की और लोगों को राहत-ए-अबदी सिखलाई| समता...
विडम्बना है कि आज हम अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार वर्षगाँठ मनाने लग गए हैं | हमारे संकीर्ण व अज्ञानपूर्ण दृष्टिकोणने भारत के महान इतिहास को हमारे लिए अपरिचित बना दिया | इसि क्रम में यह हुआ कि हम अपनी...
बोझ उठाने का महासूत्र मानसकार बताते हैं, एक बार श्रीराम से किसी ने पूछा - " प्रभु, वन प्रवास के समय आप भी पक्षपाती हो गए! ताड़का पर अमोघ बाण चलाया, उसके प्राण हर लिए| पर अहिल्या पर परद-चरण रख...
यह एक विषय है, जिस पर कई भी चर्चा करना नादानी मात्र है | परमात्मा हमारी जानकारी से बहुत ऊपर है |  उसका क्या रूप है ? कहाँ विराजमान है ? कैसे, क्या करता है ?  कैसे संसार को चलाता...
साधना से ही होता है निर्माण एक बार स्वामी दयान्द सरस्वती के शिष्य गुरूदत्त से किसी ने पूछा - ' आप अपने गुरूदेव के महान जीवन चरित्र पर कोई पुस्तकख्यों नहीं लिखते? इससे उनके आदर्शों को समाज तक पहु़ँचाने में...

Latest news

MUST READ